पापा मैंने सीखा है आपसे.. ❤️

पापा मैंने बहुत कुछ सीखा है आपसे…🙂❤️

जब दिन भर के मेहनत के बाद कुछ हांथ न आया हो तो खुद पैदल चल के किराये वाले पैसों से बच्चों के लिए कुछ लाया कैसे जाता है…
मैंने सीखा है आपसे।🙂

सब अपनापन जताते हैं हमारे दर्द मे आंसू बहा कर या हमे गले से लगा कर …
पर एक मजबूत कंधा बन के अपने आंसुओं को छुपाया कैसे जाता है…
मैंने सीखा है आपसे।🙂

जिस बेटे के पहली बार बोलने पे आपने मिठाईयां बांटी हो…
वही बेटा बड़ा हो कर आपकी बात काटते हैं  तो उसकी बात को हँस के कैसे टाला जाता है… 
मैंने सीखा है आपसे।🙂

जब सब कुछ बिखर गया हो…
समेटने को कुछ भी ना हो…
ऐसे वक़्त मे परिवार को कैसे सम्भाला जाता है…
मैंने सीखा है आपसे।🙂

अपने अरमानो का गला घोट के अपने बच्चों के सपनों को पाला कैसे जाता है…
मैंने सीखा है आपसे।🙂

सच कहा है किसी शायर ने… ❤️

आवाज़ और बिना आंसू के जो रोता है वो बाप है… ❤️
जो अपने बच्चों के तकलीफ़ों के छेदों को अपने बनियान मे पहन लेता है वो बाप होता है… ❤️

ये सच है कि 9 महीने पालती है हमे माँ पेट मे…
पर 9 महीने जो दिमाग मे ढोता है वो बाप होता है… 🙂

LOVE YOU PAPA… 😘

Father, I have learned a lot from you .❤️

When some hands have not come after a day’s hard work, then how to bring something for the children from the rental money itself.
I learned from you.

Everyone expresses our tears by shedding tears or by hugging us …
But how to hide your tears by becoming a strong shoulder …
I learned from you.

The son of whom you have distributed sweets for the first time …
If the same son grows up and bites you, then how can his words be avoided by laughing…
I learned from you.

When everything is shattered …
There is nothing to crush …
How is the family handled at such a time…
I learned from you.

How do you put the dreams of your children in the arms of your eyes…
I learned from you.

Truth is told by a poet…❤️❤️

The one who cries without voice and without tears is the father …
The one who wears the wounds of the troubles of his children in his vest is the father …❤️

It is true that 9 months raise us in our mother’s stomach …
But the 9 months that covers my mind is the father…❤️

Advertisements

कोई बात नहीं ❤️ 🙂

माना कि अब हम साथ नहीं…
मगर दिल ❤️ से एक बात कहूँ…
“कोई बात नहीं”।

लेकिन आज भी हर रात सोने से पहले…
तेरी यादों के समुन्दर मे एक लम्म्म्म्बी साँस लेकर गोता मारने चला जाता हूँ…
और उन पुराने लम्हों मे से किसी एक लम्हे को निकाल लाता हूँ…
फिर उसे आँखें बंद कर तब तक निहारता हूँ जब तक नींद नहीं आ जाती..
और अगली सुबह से यही इंतजार कारता हूँ कि कब ये दिन ढले और कब रात हो…
कब फिर तुझे आवाज लगाऊँ और कब तुझसे बात हो..

माना कि अब वो रात नहीं…
मगर दिल ❤️ से एक बात कहूँ…
“कोई बात नहीं”।

लोग कोसते है अपनी मोहब्बत को…
कि उसने उनको तबाह कर दिया…
लेकिन मै तो तेरा शुक्रगुजार हूँ…
कि जितना बनता था तूने अपना फर्ज अदा कर दिया…
और वैसे भी रिस्तों की उम्र नहीं देखी जाती…
देखी जाती है तो सिर्फ एक बात…
“कि उन रिस्तों मे हम कितना जिएं”…
और सच कहूँ तो आज समझ आता है…
कि मैंने उस वक़्त मे पूरी एक जिंदगी जी ली…
जिनकी यादें अब अकेले रहने के लिए भी काफ़ी है…

माना की अब मेरे हाथ तेरे हाथ नहीं…
मगर दिल ❤️ से एक बात कहूँ…
“कोई बात नहीं”।

शायद मेरी आवाज़ अब तुझ तक पहुँचती नहीं…
शायद तेरी निगाहें भी अब मुझको खोजती नहीं…
शायद ये कहानी अब अंजाम के परवाना चढ चुकी है…
क्यूंकि शायद मुझे भूल कर तू आगे बढ़ चुकी है…
मगर बेफिक्र होके जा…
क्यूंकि मामला ये तेरे सुकूं का है…
मेरे जिस्म की परवाह न कर…
मेरा रिश्ता तो तुझसे रूह का है…

माना की मेरे लिए तेरे वो जज्बात नहीं…
मगर दिल ❤️ से कह रहा हूँ मेरी जान…
“कोई बात नहीं”।

सबकी ईमानदारी देखी है… 🙂

किसी शायर की ग़ज़ल…
जो दे रूह को सुकूं के पल…

कितना ईमानदार कौन निकाला… यहाँ सबकी ईमानदारी देखी… जरूरत पड़ने पर निकालते अजनबियों को रिश्तेदारी देखी है।

बचपन मेरा माँ-बाप की उम्मीदों पर खरा उतरने मे निकला…कम उम्र मे दोस्तों की दुश्मनी और दुश्मनों की यारी देखी है… कितना ईमानदार कौन निकाला… यहाँ सबकी ईमानदारी देखी है।🙂

बचपन यूँ सपनों के पीछे भागते भागते जवानी मे बदली… रातों मे आँखों से आंसू निकाल दे मैने वो बेरोजगारी देखी है… कितना ईमानदार कौन निकाला… यहाँ सबकी ईमानदारी देखी है।🙂

मेरी महबूबा ने “तुम्हें तो कोई भी मिल जाएगी तपन ” बोल छोड़ा मुझे… मैने भोली दिखने वाली एक लड़की मे बहुत होशियारी देखी है… कितना ईमानदार कौन निकाला… यहाँ सबकी ईमानदारी देखी है।🙂

नटखट बचपन, रंगीन जवानी और बेरंग सा बुढ़ापा… मैंने वक़्त के साथ अपने कंधों पर बढ़ते जिम्मेदारी देखी है… कितना ईमानदार कौन निकाला… यहाँ सबकी ईमानदारी देखी है।🙂

कत्ल खुद कर इल्ज़ाम लगा देते हैं दूसरों पर… निर्दोष और कमजोर लोगों की कितने दफा होते गिरफ्तारी देखी है… कितना ईमानदार कौन निकाला… यहाँ सबकी ईमानदारी देखी है।🙂

हज़ारो ग़म थे छुपे दिल मे… फिर भी खुशियाँ बांटता रहा सबको… लोग नसीहत दे निकलते रहे “तुमने कहाँ दुनियादारी देखी है”…😄

कितना ईमानदार कौन निकाला… यहाँ सबकी ईमानदारी देखी है… जरूरत पड़ने पर निकालते अजनबियों को रिश्तेदारी देखी है।

ख्यालों मे बसाना सही है क्या?

किसी को ख्यालों मे बसाना सही है क्या?
अगर बाहों मे कोई और हो?

और जो बाहों में है वो सही नहीं तो जो ख्यालों मे है वो गलत कैसे?

अगर आपका दिल किसी को बार-बार पुकारे जिसे पुकारना नापाक हो….
तो क्या ये गलत होगा कि वो सामने आ जाए तो उसे अनदेखा करना नागवार हो?

और वो सामने है तो क्यूँ है…..??क्या उसे पल भर के लिए भी देख लेना सही नहीं…..?? और अगर गलत है तो सही क्या है…..??

ये सही और गलत का फ़ैसला आखिर कौन करता है…..??

किसी एक इंसान से दिल खोल कर प्यार करना सही है…  तो जब वो किसी और से कारता है तो मुझे सही क्यूँ नहीं लगता…. ??

और वो सही है तो मैं गलत क्यूँ….??
ये सही और गलत के बीच मे कुछ होता भी है क्या….?

Is it right to put someone thoughts?
If anyone else in the arms?

And what is in the arms is not right, than what is wrong in the thoughts.?

If your heart calls to someone again and again….
So will it be wrong if he comes in front, it is difficult to ignore him?

And if he is in front then why is it ….. ?? Is it not right to see him even for a moment? …..? And if it is wrong then what is right ….. ??

Who decide this right and wrong after all ? …..

It is right to love one’s heart with one person … then when he does something else, why don’t I feel right … ??

And that’s right, so why am I wrong …. ?? Is there anything between right and wrong?

❤️It’s a Partnership Not a Ownership… ❤️

Date a person who tells you to be safe when you go out ,
Not to one who gets mad .

Remember it’s a partnership,
Not ownership.

It’s hard to tell at first,
It seems like they love you,
They’re obsessed with you,
But than you realize that,
That obsession is toxic.

It’s based on insecurities and ego.

Don’t let anyone control you,
You’re not a puppet.

Love does not equal control,
Love is genuinely giving yourself to someone else.

If they make you guilty when you spent time with your friends,
That’s control,
The behaviour of ownership and control can take so many different forms.

It’s important observe.

The only way to be sure is these 2 signs :-
#1. It’s pulling you away from anyone and everything that you are close to.
#2. It’s making it seem like they are the only person in your life.

Remember, Date a person who tells you to be safe when you go out,
Not to one who gets mad.

उसे प्यार करो जो, जब आप बाहर जाते हैं तो आपको सुरक्षित होने के लिए कहता है
वो नहीं जो पागल हो जाए।

याद रखो यह एक साझेदारी है,
स्वामित्व नहीं।

यह पहली बार में बताना मुश्किल है,
ऐसा लगता है कि वो आपसे प्यार करता हैं,
वे आपके साथ जुनूनी हैं,
लेकिन इससे आपको एहसास होता है कि,
वह जुनून विषाक्त है।

यह असुरक्षा और अहंकार पर आधारित है।

किसी को भी अपने आप पर नियंत्रण न करने दो,
आप कठपुतली नहीं हो।

प्यार बराबर नहीं होता,
प्यार वास्तव में अपने आप को किसी और को सौंप देने को कहते है।

यदि वे आपको अपने दोस्तों के साथ समय बिताने के लिए दोषी बनता हैं,
यह नियंत्रण है,
स्वामित्व और नियंत्रण का व्यवहार कई अलग-अलग रूप ले सकता है।

यह महत्वपूर्ण निरीक्षण है।

सुनिश्चित करने का एकमात्र तरीका ये 2 संकेत हैं: –
# 1। वो आपको किसी और हर चीज से दूर खींच रहा है जो तुम्हारे करीब हैं।
# 2। वो ऐसा प्रतीत कर रहा है कि वो आपके जीवन का एकमात्र व्यक्ति हैं।

याद रखो,उसे प्यार करो जो,आपसे कहता है कि जब तुम बाहर जाओ तो सुरक्षित रहो ।
पागल होने वाला नहीं ।

प्यार है कारोबार थोड़ी…🙂 ♥️

हम लोग क्या करते हैं कि सिर्फ मोहब्बत करते हैं🙂
प्यार प्यार के लिए है यार के लिए नहीं….. 🙂

और प्यार को पाना मंजिल नहीं है…… 🙂
प्यार करना मकसद है..🙂

हमे वापस भी वही चाहिए होता है न ???🙂
हमे चाहिए वही…. “हमने उसे प्यार किया वो भी मुझे इसी तरह प्यार करे”…..😄

अरे प्यार है कोई कारोबार थोड़ी…..😄
नहीं समझे न ???? 😒

What we do that just love…. 🙂
Love is for love not for that one.. 🙂

And love is not a destination to achieve..
Loving is the purpose…. 🙂

We are back to the same we need no ???
We need it….” I love her….. She also love me in same way”….. 😄

Hey this is love not a business… 😄
Don’t understand..????? 😒

मत कहो बुरा उसको…. ♥️

वो बेवफा है तो क्या हुआ….
मत कहो बुरा उसको ।🙂
जो हुआ सो हुआ….
खुश रखे खुदा उसको ।🙂
नज़र ना आए….
तो उसकी तलाश में रहना ।🙂
नज़र ना आए…
तो उसकी तलाश में रहना ।🙂
कही मिले तो….
पलट कर ना देखना उसको । 🙂

वो सदाखुर था ज़माने के खम समझता क्या..x2
हवा के साथ चला ले उड़ी हवा उसको …🙂

वो अपने बारे मे कितना है खुशनुमा देखो…x2
जब उसको मै भी न देखूँ तो देखना उसको….🙂

वो बेवफा है तो क्या हुआ….
मत कहो बुरा उसको ।🙂